*वो हम नहीं *

Neelam Ji

रचनाकार- Neelam Ji

विधा- कविता

राह से भटक जाएं वो हम नहीं ।
हार के बैठ जाएं वो हम नहीं ।।
डर के भाग जाती हैं मुश्किलें हमसे ।
मुश्किलों से डर जाएं वो हम नहीं ।।

मौत से ख़ौप खाएं वो हम नहीं ।
हार से घबराएं वो हम नहीं ।।
डरते हैं डराने वाले हमको ।
दुश्मनों से डर जाएं वो हम नहीं ।।

हम दोस्तों को दुश्मन बनाते नहीं ।
दुश्मनों से दोस्ती निभाते नहीं ।।
बना लेते दोस्त जिसको एक बार ।
फिर जिंदगी भर उसको भुलाते नहीं ।।

मंजिल को धोखे से पाते नहीं ।
दुश्मन को भी जहर पिलाते नहीं ।
सोने सा सुंदर दिल है हमारा ।
नफरत का जहर हम फैलाते नहीं ।

Views 99
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Neelam Ji
Posts 24
Total Views 2.4k
मकसद है मेरा कुछ कर गुजर जाना । मंजिल मिलेगी कब ये मैंने नहीं जाना ।। तब तक अपने ना सही ... । दुनिया के ही कुछ काम आना ।।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia