“वो लड़की”

ज़ैद बलियावी

रचनाकार- ज़ैद बलियावी

विधा- अन्य

स्कूल की छुट्टी के बाद से जब,
हम अपने घर को आते थे.,
कदम-कमद पर मेरे पाँव,
कही…ठहर से जाते थे.,
जब अपने सखियों के साथ वो,
मेरे तलक पहुँच जाती थी.,
मेरे ह्रदय की बेचैनी भी,
और ज़रा सी बड़ जाती थी.,
फिर…,
मैं नयन मिलाया करता था,
वो नयन चुराया करती थी.,
मैं आहट उसको देता था,
वो मुस्कुराया करती थी.,
वो अपने घर को पहली गली से,
जब सीधे से मुड़ जाती थी.,
मैं ताक लगाए देखा करता,
वो मुड़-मुड़ कर झाका करती थी.,
मैं रोज़ शाम को उसकी गली से,
जब ट्यूशन को जाया करता था.,
साइकिल की घण्टी सुनते ही,
वो छत पर आया करती थी.,
लाख मुहब्बत दिल मे छुपाए,
और ओंठो पर खामोशी थी.,
मुँह मे अपनी बात छुपाए,
आँखो से सब कह जाती थी.,
स्कूल की छुट्टी के बाद से जब,
हम अपने घर को आते थे.,
कदम-कदम पर मेरे पाँव,
कही..ठहर से जाते थे…..
…………………………………..
(((((((ज़ैद बलियावी)))))

Views 121
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
ज़ैद बलियावी
Posts 19
Total Views 2.3k
नाम :- ज़ैद बलियावी पता :- ग्राम- बिठुआ, पोस्ट- बेल्थरा रोड, ज़िला- बलिया (उत्तर प्रदेश). लेखन :- ग़ज़ल, कविता , शायरी, गीत! शिक्षण:- एम.काम.

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia