वो लड़कीं थी

कवि कृष्णा बेदर्दी

रचनाकार- कवि कृष्णा बेदर्दी

विधा- गीत

इक अलबेली सबसे निरीली भोली भाली वो लडकी थी,
चाँद के जैसा उसका मुखड़ा वो लड़की शर्मीली थी,
तिरछी निगाहें पतली कमर बाल थे उसके नागिन जैसे,
उसकी सुन्दरता की क्या करू बयान नही हैं उसके जैसे,
कौन थी वो कहां से आयी कुछ भी नही पता मुझको,
उसकी भोली अदा को देख के उससे प्यार हो गया हमको,
हमसे लड़ती थी झगड़ती थी फिर वो रूठ जाती थी,
मेरे बिन रह नही पाती वो अक्सर हमको मानती थी,
कभी कभी मै कहता था उससे दूर मै तुझसे जाऊँगा,
रोती थी बिलखती थी मर जाऊंगी तुम बिन जी न पाऊँगी,
वो कहती थी जाना हैं दूर तुम्हे तो जहर हमे दे जाना तुम,
तेरे बिन नही कोई मेरा सच कहती हूँ सनम मेरे हो तुम,
बातों में सच्चाई थी उसके दिल में वो मेरे समाई थी,
मेरे सनम का नाम था आँसू दिल वो मुझसे लगाई थी,
प्यार के बन्धन में बध कर हम इक दूजे को प्यार किये,
समझ सके न समय के फेर को एक दूजे से दूर हुये,
प्यार तबसे हो नफरत दिल में आग लगा हैं मेरे,
कैसे कहूँ कह नही सकता समझ सकी न प्यार को मेरे,
दर्द ही दर्द भरा इस दिल में वो प्यार कहाँ से लाऊँ,
सारी दुनिया से हैं नफरत मुझको वो प्यार कहां से पाऊं,

Sponsored
Views 2
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
कवि कृष्णा बेदर्दी
Posts 69
Total Views 171
कवि कृष्णा बेदर्दी ( डाक्टर) जन्मतिथि-०७/०७/१९८८ जन्मस्थान- मधुराई (तमिलनाडु) शिक्षा मैट्रिक -विलेपार्ले(मुम्बई) शिक्षा मेडिकल - B.A.M.S.(लन्दन) प्रकाशित पुस्तक- हिन्दी_हमराही,अनुभूति,महक मुसाफिर, तेलुगु, हिन्दी-तेलुगू फिल्मों में गीतकार शौक_ डांस,अभिनय,गिटार,लेखन, नम्बर- +918319898597 Email I'd kavibedardi@gmail.com, Facebook link https://m.facebook.com/Bedardi? Twitter_@kavibedardi

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia