वो बात अब नहीं जमाने में

सोनू हंस

रचनाकार- सोनू हंस

विधा- कविता

वो बात नहीं अब जमाने में,
जो कभी हुआ करती थी;
वो हवाएँ अब नहीं चलती,
जो कभी चला करती थी।

जिंदगी मसरूफ थी तो क्या हुआ,
दिलो में प्यार हुआ करता था;
बातों में वो अहसास था,
जो दिलों को छुआ करता था।

अब वो दूरियाँ नहीं,
जो कभी फासला हुआ करती थी।

नज़र न आए कोई साथी,
तो घर तक पहुँच जाते थे;
पानी यहाँ पीते तो,
खाना वहाँ खाया करते थे।

नहीं इश्क की अब वो हसरतें,
जो आसमानों को छुआ करती थी।

नहीं है प्यार का वो जज्बा,
अ 'हंस' अब जमाने में,
अब तो साकी अलग मिलते हैँ,
यहाँ हर एक मयखाने में।

वो घर भी हमने देखा है,
जिसमें दो दीवारें नहीं हुआ करती थी।

सोनू हंस

Sponsored
Views 15
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
सोनू हंस
Posts 48
Total Views 583

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia