…वो बचपन, वो तुम्हारी गुटर-गुटर

Sandeep Kumar Sharma

रचनाकार- Sandeep Kumar Sharma

विधा- लेख

वो बचपन कैसे भूल सकता हूं और भूल नहीं सकता तुम्हारी गुटर-गुटर….। मेरे दोस्त, तब इतनी आपाधापी नहीं थी…तुम भी स्वच्छंद थे और मैं भी स्वतंत्र। बचपन किसी कपोत की उड़ान जैसा ही तो होता है, निर्मल…डरा सा, सहमा सा, बहुत कुछ देख लेने की चाहत, छोटी इच्छाएं, बड़ी सी भावनाएं…। सच, कितना मीठा सा था वो बचपन। तुम मेरे घर की छत के रोशनदान में अकसर आकर गुटर गुटर किया करते थे, मैं तब छोटा था और यकीन मानो कि तब मुझे वो आवाज अकसर चिंता में भी डाल दिया करती थी कि आखिर मेरे दोस्त को कोई तो परेशानी है जो वो खुलकर नहीं बोल पा रहा…। मां से पूछा कि ये कबूतर इतना ही क्यों बोल पाते हैं….ये हमारी तरह सारी बातें कह क्यों नहीं देते….। मां मुस्कुराई और कहा वो जिनके लिए बोल रहे हैं वो उन्हें पूरी तरह समझ भी रहे हैं….। मैंने दोबारा सवाल किया हम क्यों नहीं समझ पाते….मां ने कहा वो भी तो हमें नहीं समझ पाते…तभी तो हमसे भयभीत रहते हैं….। मां की बातें पूरी तरह समझ नहीं आईं….। इतना समझ पाया कि उस ईश्वर ने हमें अलग-अलग बनाया है, वो नहीं चाहता था कि हम एक-दूसरे की भाषा और बोली को समझें…। मैं ये जिद नहीं करता कि ऐसा क्यों था लेकिन मेरे दोस्त एक बात अवश्य कहना चाहता हूं कि तुम्हारी उस गुटर-गुटर में तब चिंताएं अधिक होती थीं….मैं जानता था कि रोशनदान की दीवार जिस पर तुम बैठा करते थे वो छोटी और यकीन मानना मुझे वो डर सताता था कि कहीं तुम थककर आए और झपकी लगने पर गिर न पडो….कई बार खिड़की से देखता था….तब मां कहती थी कि उसे कुछ नहीं होगा….उसे ईश्वर ने बहुत ताकतवर बनाया है…सोचता हूं कभी मां कहती थी इंसान ताकतवर है और कभी कहती थी कि परिंदा….। मुझे लगता है असल ताकतवर तो वो है जिसने इंसान और परिंदे को साथ बनाया और करीब रहने के तौर’तरीके सिखाए और समझाए….। दोस्त तुम अब भी मुझे उतने ही भाते हो, उम्र बढ़कर कापफी आगे निकल आई है लेकिन बचपन तो कांधे पर ही सवार है…। वो जिद करता है, उतरने की बात पर मेरे गले और मन से लिपट जाता है…।
संदीप कुमार शर्मा

Sponsored
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Sandeep Kumar Sharma
Posts 13
Total Views 63
मेरी फोटोग्राफी और लेखन में प्रयास रहता है कि मैं प्रकृति के उस खिलखिलाते चेहरे को अपने हाथों से छूकर महसूस कर सकूं...। देखता और महसूस करता हूं कि प्रकृति और मेरे बीच में एक रिश्ता बन गया है...वह हंसती है, खिलखिलाती है और उदास होती है तो मैं उसके हर मर्म को सहजता से समझ जाता हूं...। वो उम्मीद से मेरे ओर देखती है...देर तक बातें भी करती है।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia