वो तेरी एक भूल

Dr. pragy Goel

रचनाकार- Dr. pragy Goel

विधा- अन्य

सुबह उगते हुए सूरज से मैंने पूछा
यहां जो उग रहा है तू कहीं तो ढल रहा होगा
किसी की नींद आखों से चुराने तू यहां आया
कोई तो तेरे ना होने पर सपने बुन रहा होगा
ना जाने कौनसा रस्ता जो पीछे छोड़ तू आया
ना जाने कितनी बातें अँधेरे में गुम गयी होंगी
करेगा कौन कल शिकवा तुझसे बेवक्त जाने का
तेरे लौट आने तक कितनी शमांए बुझ गयी होंगी
वो पूरी दास्तान बता अब किसको सुनायेगा
जो रस्ता देखती थी वो पलके थक गयी होंगी
वो मेरी बीते वक्त एक पल कैसै चुकाएगा
वो तेरी एक भूल किसी की आहें बन गयी होंगी

Sponsored
Views 51
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Dr. pragy Goel
Posts 4
Total Views 588
देह शब्द है भाव आत्मा यही समुच्चय मेरा परिचय

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia
One comment