“वो चिडिया “

Brijpal Singh

रचनाकार- Brijpal Singh

विधा- कविता

__________________________________
घर वो वैसा ही है आँगन भी वही मगर, वो चिडिया अब मेरे आँगन में आती नहीं…
*******************************
मैने उसे याद किया नहीं पहले मगर, वो आती थी रोज़ाना जरुर !
आज अगर आवाज़ दूँ उसे चिल्लाऊँ जोरो से मगर, आती नहीं शायद गई वो अब कहीं दूर !
***********************************
घर वो वैसा ही है आँगन भी वही मगर, वो चिडिया मेरे आँगन में आती नही…
**********************************
उसकी वो आवाज़ चहचहाने की मेरे सपनो में अब आती है कभी ,
पहले तो क्या था आ जाती थी वो रात या दिन कभी भी !
पुर्खों की तरह शायद वो अब कभी आयेगी , मगर दिल कहता है शायद कहीं तो दिख जायेगी !
————————————————–
घर वो वैसा ही है आँगन भी वही मगर , वो चिडिया अब मेरे आँगन में आती नहीं …
********************************
क्यों हो रहे विलुप्त हर रोज़ क्या हैं ये अफ़साने,
ना कर तू उम्मीद बृज वो ज़माने थे पुराने !
जहाँ नहीं इंसा वहाँ इस पक्षी का क्या काम वर्चस्व इनका खोता रहा सदा बस बचा हुआ है नाम !
———————————————————-
घर वो वैसा ही है आँगन भी वही मगर, वो चिडिया मेरे आँगन में आती नहीं ..

Views 25
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Brijpal Singh
Posts 50
Total Views 2.3k
मैं Brijpal Singh (Brij), मूलत: पौडी गढवाल उत्तराखंड से वास्ता रखता हूँ !! मैं नहीं जानता क्या कलम और क्या लेखन! अपितु लिखने का शौक है . शेर, कवितायें, व्यंग, ग़ज़ल,लेख,कहानी, एवं सामाजिक मुद्दों पर भी लिखता रहता हूँ तज़ुर्बा हो रहा है कोशिश भी जारी है !!

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia
One comment