*******वीर जवानों की गाथायें *******

Sureshpal Jasala

रचनाकार- Sureshpal Jasala

विधा- कविता

*******वीर जवानों की गाथायें *******

वीर जवानों की गाथायें,तुमको आज सुनाता हूँ ;

तूफानों में डटे रहे जो ,उनको शीश झुकता हूँ ;

कर्मपथ के वे अनुरागी ,मैं तो उनका दास हूँ ;

उनकी ही आजादी में ,लेता खुलकर साँस हूँ ;

भारत माँ के प्रणय हेतु ,करता ये अहसास हूँ ;

गाकर गाथा उन वीरों की ,मन से मैं मुस्काता हूँ ;

वीर जवानों की गाथायें————————–

चढ़ चेतक पर राणा प्रताप ,हर-हर बम-बम बोले थे ;

काँप उठा था शत्रु सारा ,वीर शिवा जब डोले थे ;

मंगल पांडे की चिंगारी ,रंग आजादी लाई थी ;

लक्ष्मीबाई भी बन काली ,अंग्रेजों पर छाई थी ;

राजगुरु सुखदेव भगत ने, फांसी गले लगाई थी ;

शेखर की पिस्तौल के आगे, नतमस्तक हो जाता हूँ;

वीर जवानों की गाथायें————————–

गोविंदसिंह का बाज उडा था ,फुर-फुर-फुर-फुर नभ में ;

ऊधमसिंह भी कूद पड़ा था , आजादी की जंग में ;

तात्यां ने भी मरघट भेजा ,अंग्रेजों को रण में ;

पंजाब केसरी की केसर की,मधुर सुगन्धी फैली थी ;

लोह पुरुष की आँखें भी ,अंगारो सी दहकी थी ;

दुश्मन का सीना चीर धरे जो,उनकी गाथा कहता हूँ ;

वीर जवानों की गाथायें————————–

नेताजी के सम्भाषण की,एक अनोखी मौज थी ;

वीर बांकुरों से अलंकृत, आजाद हिन्द फ़ौज थी ;

आजादी के मतवालों की ,बढ़ती हिम्मत रोज थी ;

रणभूमि में गर्जन करता, ऐसा सिंह एक था ;

भारत माँ की आजादी का उसका सपना नेक था ;

खून के बदले आजादी की ,पहेली एक बुझाता हूँ ;

वीर जवानों की गाथायें————————-

आजादी के महासमर में ,लाखों लोग शहीद हुए ;

भारत माँ को चाहने वाले ,उनके ही मुरीद हुए ;

मात -पिता की आँखें नम , और सीना गर्व से पूर था ;

ब्याहता पत्नी की आशा का , टूटा सपना चूर था ;

भ्राता-भगिनि के चेहरों पर , विश्वासों का नूर था ;

शहीदों के बलिदान को अर्पित, पावन दीप जलाता हूँ ;

वीर जवानों की गाथायें————————-

वीर शहीदों की चिता पर ,अश्रु सभी बहांते हैं ;

उनकी स्मृति की पावन ,झलकी गले लगते हैं ;

प्यार स्नेह से अभिनन्दन और वंदन उनका करते हैं ;

बदल गई हैं परिभाषाएँ, उनका वर्णन करते हैं ;

स्वार्थपरता लौलुपता का, सिंहासन है पर जोर है ;

उनके ही मर्दन की खातिर ,तत्वज्ञान बतलाता हूँ ;

वीर जवानों की गाथायें————————-

भ्रष्टाचारी और आतंकी ,आज हमें ललकारे हैं ;

सीमा पर भी दुश्मनी की तेज खिंची तलवारे हैं ;

तुष्टिकरण में नेता जन भी ,शब्द नहीं उचारे हैं ;

आज नहीं हम चुप बैठेंगे ,करनी लड़ाई पार है ;

भारत माँ का बच्चा-बच्चा ,लड़ने को तैयार है ;

देश-द्रोहियों को मैं यही,बार-बार बतलाता हूँ ;

वीर जवानों की गाथायें————————-

आजादी के मतवालों का ,झूम-झूम सम्मान करो ;

हैं स्वर्ग के वे अधिष्ठाता ,उनका नित जयगान करो ;

इसीलिए मैं सबसे कहता ,राष्ट्र-गीत का मान करो ;

भारत माँ की रक्षा हेतु ,विष का भी तुम पान करो ;

वन्देमातरम् वन्देमातरम् ,वन्देमातरम् गान करो ;

वीर भरत के भारत में मैं ,सिंह के दांत गिनाता हूँ ;

वीर जवानों की गाथायें————————-

*******सुरेशपाल वर्मा जसाला

Views 89
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Sureshpal Jasala
Posts 18
Total Views 469
I am a teacher, poet n writer, published 8 books , started a new Hindi poem method called " Varn piramid or jasala piramid." I have membership n hold posts in many societies. Also Awarded by many societies.

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia
One comment
  1. वाह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह आदरणीय नमन बहुत ही सुंदर देशभक्ति से ओतप्रोत सृजन के लिए बधाई – जय हिंद जय भारत