विरह गीत

सरस्वती कुमारी

रचनाकार- सरस्वती कुमारी

विधा- कविता

फागुन में मन हिलोर मारे
आईल ना अबहूं सजनवा
सब सखियन मिली ताना मारे
विरह बाण छेदत है करेजवा
मन की मन ही जानै सावरे
जब से गइलै पिया विदेशवा
रात बितल गिन-गिन तारे
न भेजल कोनो पाती न संदेसवा
ए कोयल ले जा तू संदेश हमारे
जा के कहना तुम बिन रास न आवै घर-अँगनवा
आ अब लौट चलो औ परदेशी प्यारे
तोहर धानी सुख भईल ज्यों नागफनी के कँटवा।

Sponsored
Views 53
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
सरस्वती कुमारी
Posts 17
Total Views 4.6k
सरस्वती कुमारी (शिक्षिका )ईटानगर , पोस्ट -ईटानगर, जिला -पापुमपारे (अरूणाचल प्रदेश ),पिन -791111.

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia