विधा कुण्डलिका रक्षाबंधन पर

Sajoo Chaturvedi

रचनाकार- Sajoo Chaturvedi

विधा- कविता

यादें हैं बचपने की, राखी है बँधवाए।
मुँह में मिठाई खाये, एक रूपया टिकाए।।
एक रुपया टिकाए , चार दूरहीं दिखाये।।
बारि बारि चिढ़ाये ,रूठूँ पास आए मनाये
भगिनी संगी खेले , कुछ न कुछ चीज खिलाये
माँ देखी मुस्काए ,सोच प्यार भरी यादें।
सज्जो चतुर्वेदी*******

Views 7
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Sajoo Chaturvedi
Posts 18
Total Views 70

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia