विधाता की पाती

aparna thapliyal

रचनाकार- aparna thapliyal

विधा- कविता

तितली और खगकुल
रंगों के ऐसे गुरुकुल
अप्रतिम सुन्दरता के
भरे हैं जैसे घटकुल
ये नयनों के निहोरा!
____________________

नाजुक परों के कैनवस पर
मोहक चित्र कारी
कौन है वो चितेरा !
जिसकी तूलिका ने
ये सब अद्भुत उकेरा
______________________

ये पाती है विधाता की
लिखावट है ये त्राता की
जो कहना चाहती है
मनुज कर मान प्रकृति का
ना बन तू अब लुटेरा।
______________________
विध्वंसक अट्टहास तेरा ?
मेरे उपहार का उपहास !
तू उपकार भूला ?
बनाया है तेरी खातिर
ये दिलखुश सा बसेरा ।
_________________________
नयन का उपनयन कर
खोल दृग
आखेट तज दे
तेरे आगे नहीं कुछ?
भ्रमित मस्तिष्क तेरा!
अपर्णा थपलियाल"रानू"

Sponsored
Views 3
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
aparna thapliyal
Posts 39
Total Views 528

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia