विदाई के बाद आई बेटी की याद

Neha Agarwal Neh

रचनाकार- Neha Agarwal Neh

विधा- कविता

" विदाई के बाद आयी बेटी की याद "

तुम मुझ सी हो या,
मैं तुम सी हूँ।
पहेली सुलझाने में ही,
वक्त गुजर जाता है।

क्या कहूँ क्यों तेरी विदाई पर,
यह दिल भर सा आता है।
क्या करूं मेरा,
अभिन्न अंश है तू।

तुझसे दूरी का सोच कर ही,
यह दिल घबराता है।
पर जानती हूँ मैं कि,
बहादुर बेटी की माँ हूँ ना।

इसलिए हर पल तेरी राहों,
को सितारों से सजाया है।।
अब तुझे भी है,
एक बगिया को महकाना।

हमने भी नानी बनने का
अरमान अब दिल में सजाया है।
मेरी गुड़िया भी एक दिन
लायेगी प्यारी सी गुड़िया।।

यह सोच कर ही,
नादान दिल यह हर्षाया है,
तुम्हारे सारे पंसद के खिलौनों को
एक बार फिर से मैने करीने से लगाया है।

नेहा अग्रवाल नेह

Sponsored
Views 119
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Neha Agarwal Neh
Posts 2
Total Views 129

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia