विजयश्री

Rajesh Kumar Kaurav

रचनाकार- Rajesh Kumar Kaurav

विधा- कविता

विजयश्री के जश्न में,
बजते ढ़लोक और मृदंग ।
नृत्य गान रंग गुलाल से ,
बदल गये सबके रंगढंग।
मिला श्रेय जो सौभाग्य है,
करने को प्रभु के काज ।
वरन् बक्त बदलते ही,
लुटती रहती है लाज ।
जो जितने ऊपर होता है,
उसको मिलती उतनी खाई।
सतह न त्यागे यदि कभी,
दुनिया करती रहेगी भलाई।
माना हो शिखर के कलश,
सत्ता,शक्ति सब कुछ पास में।
बुरे बक्त न पड़ता कोई काम,
कर्म ही रह जाता है हाथ में।
रच गये जो इतिहास नया,
श्रेष्ट कार्य कर समाज का ।
उन्हें वरण किया विजय ने,
साथ दिया है जीवन का।
जो उपेक्षित करे कर्तव्यों को,
विजयश्री के आँचल मेंं।
उन्हें न करता माफ जगत,
औकात दिखाते आपस में।
समय चक्र अब पलटा है,
कुछ करके दिखलाना होगा।
वरन जो हश्र आज उनका है,
वही कल तुम्हरा भी होगा।

Views 27
Sponsored
Author
Rajesh Kumar Kaurav
Posts 16
Total Views 465
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia