वाकया

अतुल कुमार राय

रचनाकार- अतुल कुमार राय

विधा- कविता

खुले केश अधरों पर लाली/शोभित बिंदी माथे पर,

बंजर जमीं पर मुद्दतों बाद/बारिश आयी हो जैसे!

पीली साड़ी श्वेत बदन का/कर रहे बखूबी थे श्रृंगार,

नाक पे गुस्सा तीखी नजर/कयामत लायी हो जैसे!

चूड़ी लाल हिना के संग/हाथों का मचलना अच्छा लगा,

पाँव में पायल और घुँघरू/प्यार की धुन बजायी हो जैसे!

उसके कंधे पर हाथ रखा/जब ‘अजनबी’ दिल सहम गया,

स्टेशन पर वो लगा विदा/पिया को करने आयी हो जैसे!

Views 4
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
अतुल कुमार राय
Posts 14
Total Views 54
"तू हँसी अधर रुख़सार का तिल,मैं थके नयन का लोर प्रिये।" ग्राम+पोस्ट-मुर्तजीपुर जिला-गाजीपुर(उ.प्र.) संपर्क सूत्र-मो.नं.-९४५२०७५००७

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia