*वर्ण का महाजाल और संतुष्टि*

Mahender Singh

रचनाकार- Mahender Singh

विधा- कविता

**ये सपने नहीं हकीकत है,
चुकती जिसमें कीमत है,
ख्वाब नहीं ..
..जो टूट जाए,
आंखें ..खुलते ही,

चिपक जाते है जो जन्म लेते ही,
ऐसी-वैसी नहीं व्यवस्था,
जो बंटी हो वर्गो में,
जकड़ी हुई जो वर्ण-व्यवस्था से,
है बड़ी विकराल समस्या,

फंसा है जाल में…
जाल में ही मर जाएगा,
पर चक्रव्यूह न तोड़ पाएगा..।

आखिर
शिक्षित बनो !
संगठित रहो !
संघर्ष करो !
सूत्र ही सम्मान बचाऐगा,

तब जाकर कोई ,
जीवन को धन्य कह पाएगा !
जीव जीवन को गर..धन्य न कहे ,
तब तक कौन कहे ..
डॉ महेन्द्र सिंह खालेटिया,
कोई मिथ्या से मुक्त हो पाया है,

Sponsored
Views 55
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Mahender Singh
Posts 44
Total Views 1k
पेशे से चिकित्सक,B.A.M.S(आयुर्वेदाचार्य)

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia