“वन्दे मातरम”

रजनी मलिक

रचनाकार- रजनी मलिक

विधा- गीत

"ये तीन रंग की धरा,
केसरिया ,श्वेत,हरा।
आँचल में इसके नदियाँ बहती,
गंगा,जमुना,सरस्वती।
हिन्द ,अरब,प्रशांत का,
कदमों में संगीत भरा।
ये तीन रंग…..
राम,कृष्णा,अल्लाह ,गुरुनानक,
है देश भक्ति सब धर्मों की पालक।
रंग से रंग भेद,इन्द्रधनुष बना,
मतभेद नहीं हममे जरा।
ये तीन रंग…..
चाँद पे है पांव अपने,
हाथ जोड़ हम झुकादे सपने,
इसकी शक्ति दुनिया पहचाने,
इसका कोना कोना खरा।
ये तीन रंग की धरा,
केसरिया,श्वेत,हरा।
::::रजनी:::::

Sponsored
Views 34
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
रजनी मलिक
Posts 31
Total Views 2.1k
योग्यता-M.sc (maths) संगीत;लेखन, साहित्य में विशेष रूचि "मुझे उन शब्दों की तलाश है;जो सिर्फ मेरे हो।"

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia
2 comments
    • बहुत बहुत शुक्रिया मैम,स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक बधाई