वन्दे मातरम् का गीत सुबह और शाम जो गाये

sunil soni

रचनाकार- sunil soni

विधा- कविता

कश्मीर में सेनिको से दुर्व्यहार करने वाले गद्दारों को सबक सिखाने के लिये है ये कविता
___-______________________________

खाते हो जो थाली में
उसी में छेद करते हो ।
पिलाया दूध आँचल का
उसी से बैर करते हो ।
तुम्हें कब शर्म आएगी
नहीं जीने का हक तुमको ।
कि जिसने जिंदगी दी है
उसी पर वार करते हो ।।

फ़क़त कश्मीरियत के नाम
करो तुम रोज ही दंगे ।
नही खाने को रोटी है
करो नित नाच क्यों? नंगे ।
तरस जाओगे पानी को
जो हम अपनी पर आजायें ।
रहेगा न निशां बाक़ी
जो नक्शे से मिटा देंगे ।।

जो दुश्मन का भला चाहे
चला वो पाक को जाये ।
रहे कश्मीर में वो ही
जो भारत देश को चाहे ।
कहें हम फक्र से अब तो
कि वो ही हिंदुस्तानी है ।
वंदे मातरम् का गीत
सुबह और शाम जो गाये ।।

सुनील सोनी "सागर"
चीचली (म.प्र)

Sponsored
Views 86
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
sunil soni
Posts 12
Total Views 1.2k
जिला नरसिहपुर मध्यप्रदेश के चीचली कस्बे के निवासी नजदीकी ग्राम chhenaakachhaar में शासकीय स्कूल में aadyapak के पद पर कार्यरत । मोबाइल ~9981272637

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia