वक्त रात पर अड़े

seervi prakash panwar

रचनाकार- seervi prakash panwar

विधा- शेर

अब काँच पर पत्थर गिरे, फर्क न पड़ता अब जिद को!
अब वक्त रात पर अड़े, इंतजार न होता अब आँखों को!
आख़िर कब तक तक़दीर पर डालकर मै खेल ऐसा खेलूँ!
कि होठों से अफ़साने गिरे, पर आँच न आती कलेजे को!
–सीरवी प्रकाश पंवार

Sponsored
Views 11
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
seervi prakash panwar
Posts 29
Total Views 349
नाम - सीरवी प्रकाश पंवार पिता - श्री बाबूलाल सीरवी माता - श्री मती सुन्दरी देवी जन्म - 5 जुलाई 1997 पता - अटबड़ा, तह-सोजत सिटी, जिला- पाली राजस्थान शिक्षा - इंजीनियरिंग(वर्तमान) रुचि- लेखक(writer) संपर्क - 9982661925 Facebook-www.fb.com/seerviprakashpanwar Blog-www.seerviprakashpanwar.blogspot. com www.ekajeebpal.blogspot.com www.seervibhasha.blogspot.com

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia