लौहपरी चाहिए

preeti tiwari

रचनाकार- preeti tiwari

विधा- गीत

मिट्टी के शहज़ादों को लौह परी चाहिए
देखने सुनने में मदभरी चाहिए,
घर बाहर के कामों में कड़ी चाहिए,
मिट्टी के शहज़ादों को लौह परी चाहिए

एक ही पल में वो बचपने को छोड़ के,
हर जरूरत का खयाल हर एक की रखे,
वक्त पड़े तो माँ ,बहन,देवी भी हो सके,
उम्र में हो छोटी पर 'बड़ी' चाहिए,
मिट्टी के शहज़ादों को लौह परी चाहिए

घर के कोने-कोने को संभाल कर रखे,
बाहर के कामों में भी वो कमाल कर सके,
मुसीबतों में हो सके तो ढाल बन सके,
हर एक चुनौतियों में वो खरी चाहिए,
मिट्टी के शहज़ादों को लौह परी चाहिए

फाइव स्टार जैसा खाना बना सके
घर का इंटीरियर भी चुटकियों में सजा सके
उसपे ये भी है कि वो पैसे बचा सके,
चाँदनी में धूप सुनहरी चाहिए,
मिट्टी के शहज़ादों को लौह परी चाहिए

लुक्स में हो स्मार्ट ऐजुकेशन भी हाई हो,
नौकरी करे और मोटी कमाई हो,
घर में आके काम में जुटी सी बाई हो,
उस पे मुस्कुराती हर घड़ी चाहिए,
मिट्टी के शहज़ादों को लौह परी चाहिए.😊

Sponsored
Views 42
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
preeti tiwari
Posts 29
Total Views 519
जज्बातो को शब्दो मे उकेरने का प्रयास है मेरी लेखनी ही मेरे होने का एहसास है

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia