लोकतंत्र

डॉ०प्रदीप कुमार

रचनाकार- डॉ०प्रदीप कुमार "दीप"

विधा- कविता

" लोकतंत्र "
————–

लोगों का
लोगों के लिए
लोगों के द्वारा |
यही तो है…….
लोकतंत्र ||
वैसे तो
वैदिक युग में ही
पनप चुके थे बीज
लोकतंत्र के |
परन्तु……..
वास्तविक आधार बना
हमारा संविधान !
जिसमें आगाज हुआ
लोकतंत्र का ||
हाँ ,सच है ये
हम भारत के लोग !
यही वो वाक्य है–
जो उद्भूत करता है
लोकतंत्र को ||
बहुत से उद्देश्य हैं
इस लोकतंत्र के
जैसे —
प्रभुत्वसम्पन्न !
समाजवादी !
पंथनिरपेक्ष !
लोकतांत्रिक गणराज्य
बनाने के साथ-साथ
सामाजिक-आर्थिक-राजनैतिक न्याय !
स्वतंत्रता !
समानता !
बंधुता !
व्यक्ति की गरिमा
और राष्ट्र की……
एकता और अखंडता !
ये सभी तो हैं !
लोकतंत्र के सात्विक उद्देश्य ||
हाँ !
उपलब्धियाँ भी हैं !
पुरातन भी
और नूतन भी !
आचार भी हैं
नवाचार भी |
संरक्षण भी है
परीक्षण भी |
मूल अधिकारों का
रक्षण भी है !
तो निदेशक तत्वों का
अनुपालन भी |
केन्द्रीकरण भी है
विकेन्द्रीकरण भी |
सशक्तिकरण भी है
संस्कृतिकरण भी |
बहुत कुछ पाया है
लोकतंत्र से हमने
जैसे—
उदारीकरण !
वैश्वीकरण !
निजीकरण !
इत्यादि |
हम जागरूक भी हैं !
जवाबदेह भी !
पारदर्शी भी और
उत्तरदायी भी !!
क्योंकि ?
हमारे पास है !
विश्व का सबसे बड़ा
और सशक्त लोकतंत्र ||
———————————
— डॉ० प्रदीप कुमार "दीप"

Views 7
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
डॉ०प्रदीप कुमार
Posts 79
Total Views 2.5k
नाम : डॉ०प्रदीप कुमार "दीप" जन्म तिथि : 02/08/1980 जन्म स्थान : ढ़ोसी ,खेतड़ी, झुन्झुनू, राजस्थान (भारत) शिक्षा : स्नात्तकोतर ,नेट ,सेट ,जे०आर०एफ०,पीएच०डी० (भूगोल ) सम्प्रति : ब्लॉक सहकारिता निरीक्षक ,सहकारिता विभाग ,राजस्थान सरकार | सम्प्राप्ति : शतक वीर सम्मान (2016-17) मंजिल ग्रुप साहित्यिक मंच ,नई दिल्ली (भारत) सम्पर्क सूत्र : 09461535077 E.mail : drojaswadeep@gmail.com

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia