लेके अँगड़ाई हमको लुभातए रहे

Pritam Rathaur

रचनाकार- Pritam Rathaur

विधा- गज़ल/गीतिका

212 212 212 212
ग़ज़ल
———
फ़र्ज़ अपना हमेशा निभाते रहे
जो वतन पे दिलो जां लुटाते रहे
🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷
देश की मैं हिफ़ाज़त करूँ उम्र भर
ख़ाब दिन रात हमको ये आते रहे
🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷
प्यार उनको न सच्चा लगा है कभी
उम्र भर वो हमें आज़माते रहे
🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷
नींद तो दूर कोसों हुईं आँख से
चाँद तारे भी हमको चिढ़ाते रहे
🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷
आदमी खुद न झाँके गिरेबान में
आइने को ही झूठा बताते रहे
🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷
पास आते नहीं बस हमें दूर से
लेके अँगड़ाई हमको लुभाते रहे
🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷
एक बिजली गिरी जल गया आशियाँ
राख़ लेकर वो बरतन धुलाते रहे
🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷
देके खुशियां उन्हें हम मेरे जीस्त की
जिन्दगी भर हम उनको हँसाते रहे
🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷
कैसे किरची में ये दिल बिख़रता नहीं
पत्थरों से ही दिल जब लगाते रहे
🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷
देख कर हुस्न अँगूर के बेटी की
ये क़दम खुद ब खुद डगमगाते रहे
🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷
वो समझते न "प्रीतम" मेरी तिश्नग़ी
जाम क़तरों में ही बस पिलाते रहे
🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷
प्रीतम राठौर भिनगाई
श्रावस्ती (उ०प्र०)
11//08//2017
💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐

Sponsored
Views 1
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Pritam Rathaur
Posts 168
Total Views 1.8k
मैं रामस्वरूप राठौर "प्रीतम" S/o श्री हरीराम निवासी मो०- तिलकनगर पो०- भिनगा जनपद-श्रावस्ती। गीत कविता ग़ज़ल आदि का लेखक । मुख्य कार्य :- Direction, management & Princpalship of जय गुरूदेव आरती विद्या मन्दिर रेहली । मानव धर्म सर्वोच्च धर्म है मानवता की सेवा सबसे बड़ी सेवा है। सर्वोच्च पूजा जीवों से प्रेम करना ।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia