“लाडली बिटिया “

pratik jangid

रचनाकार- pratik jangid

विधा- कविता

हर कदम पर माँ बाप का सहारा बन जाती हे !
हर घर आगन को रोशन का जाती हे
जहाँ में वो लाडली “बिटिया“ कहलाती हे ……..!!
बेटी होने के साथ साथ बेटे का फर्ज़ भी अच्छे से निभाती हे !
माँ का प्यार और पिता की डाट से कुछ न कुछ सिख जाती हे
हर काम में माँ बाप का हाथ बटाती हे !
जहाँ में वो लाडली “बिटिया“ कहलाती हे ……..!!
मीलो दूर होकर भी पास होने का अहसास करा जाती हे !
दिल की हर बात को वो समझ जाती हे !
भाई की गलतियों पर खुद डाट खाती हे !
खुद रोती हे पर सबके सामने गम छुपाती हे !
जहाँ में वो लाडली “बिटिया“ कहलाती हे ……..!!

बेहतरीन साहित्यिक पुस्तकें सिर्फ आपके लिए- यहाँ क्लिक करें

Views 54
इस पेज का लिंक-
Sponsored
Recommended
Author
pratik jangid
Posts 17
Total Views 288

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia