लगता है अपनों ने फंदा पिरोया होगा

Ashish Tiwari

रचनाकार- Ashish Tiwari

विधा- तेवरी

मरने से पहले वो कितना रोया होगा !
पाकर सबकुछ फिर उसने खोया होगा !!

बेवजह ऐसे कोई नहीं मरता यारों ,
जरूर जिंदगी में जहर बोया होगा !!

बहुत दिनों से सोया नहीं था शायद
आज सचमुच चैन से सोया होगा !!

हँसता हसाता मदत भी करता था ,
मर गया ज्यादा भार ढोया होगा !!

साथ रहने खाने हँसने की आदत थी,
अकेला आँसुओं से बदन भिगोया होगा !!

मरता ना अपनों का प्यार मिला होता जुगनू ,
लगता है अपनों ने फंदा पिरोया होगा !!

Views 7
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Ashish Tiwari
Posts 45
Total Views 2.1k
love is life

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia