ऱिश्तों की पहचान

RAMESH SHARMA

रचनाकार- RAMESH SHARMA

विधा- दोहे

कैसे भूलूँ आपका, मै दुर्दिन अहसान !
सहज कराई आपने,रिश्तों की पहचान ! !

एक दूसरे का करें,आपस मे सम्मान !
ऐसी होनी चाहिए,रिश्तों की पहचान !!

बँधा स्वार्थ की डोर से,जँह रमेश इन्सान !
वहाँ सहज होती नही,रिश्तों की पहचान ! !
रमेश शर्मा.

जैसी अपनी जान है, …वैसी सबकी जान !
समझेगा कब सत्य यह, कलयुग का इन्सान ! !

रिश्तों की इस दौर मे,यही एक पहचान !
किसको कितना फायदा,कितना है नुकसान !!
रमेश शर्मा.

Views 14
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
RAMESH SHARMA
Posts 152
Total Views 2k
अपने जीवन काल में, करो काम ये नेक ! जन्मदिवस पर स्वयं के,वृक्ष लगाओ एक !! रमेश शर्मा

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia