रिश्तों की वह डोर

RAMESH SHARMA

रचनाकार- RAMESH SHARMA

विधा- दोहे

मैने खुद ही तोड दी,.रिश्तों की वह डोर!
लगी स्वार्थ वश जो मुझे,क्षीण और कमजोर!

निर्बल दुर्बल हो रहे,ताकतवर बलवान !
लोकतंत्र की देश मे,यह कैसी पहचान! !

अँधा हो कानून जँह, बहरी हो सरकार!
निर्बल की सुनता नही,कोई वहाँ पुकार! !
रमेश शर्मा.

बेहतरीन साहित्यिक पुस्तकें सिर्फ आपके लिए- यहाँ क्लिक करें

Views 6
इस पेज का लिंक-
Sponsored
Recommended
Author
RAMESH SHARMA
Posts 129
Total Views 1.3k
अपने जीवन काल में, करो काम ये नेक ! जन्मदिवस पर स्वयं के,वृक्ष लगाओ एक !! रमेश शर्मा

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia