रिश्ते

Rita Yadav

रचनाकार- Rita Yadav

विधा- दोहे

रिश्ते में जब प्रीत हो ,लगे तभी वो खास l
प्रीत बिना रिश्ते सभी, लगते सदा उदास ll

रिश्ते सबको याद है ,फर्ज गए सब भूल l
साथ कष्ट में थे नहीं, बात करें ज्यो शूलll

द्वेष भाव मन के मिटा ,रखना रिश्ते साफ l
अपने यदि गलती करें ,कर देना तुम माफ ll

Sponsored
Views 99
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Rita Yadav
Posts 37
Total Views 1.5k

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia