रिश्ते बेटी बिना अधूरे

DrDinesh Bhatt

रचनाकार- DrDinesh Bhatt

विधा- गज़ल/गीतिका

गीतिका
^^^^^^^^^
आधार छन्द-द्विगुण चौपाई
(16,16 मात्रा,अंत में 21/गाल वर्जित,आदि में द्विकल+त्रिकल+त्रिकल वर्जित,मापनी मुक्त)
******************************
कचरे के डिब्बे में छोड़ी, किसने ये नवजात कली है
भूख प्यास से तड़प-तड़प कर,जो दुनिया को छोड़ चली है।

फूल नहीं बन पाई खिलकर,तोड़ दिया उगने से पहले
वारिस की चाहत में बेटी,बार बार जाती कुचली है।

सुबह शाम सब पूज रहे हैं,चंडी दुर्गा लक्ष्मी को जब
फिर क्यों अबला की चीखों से,गूँज रही हर गली गली है।

रिश्ते बेटी बिना अधूरे,सुनो जरा बेटे वालो तुम
सुख दुख में माँ बापू के सँग, हरदम बेटी साथ चली है।

हुई सभ्यता है शर्मिंदा,घुट-घुट कर रोई मानवता
दानव दुष्ट दहेज़ के हाथों,फिर से बेटी एक जली है।

सब दोषी हैं माली मालिक,रौंद रहे सुन्दर बगिया को
नारी भी नारी की दुश्मन,इसका चेहरा भी नकली है।

बेटा बेटी एक बराबर,नारा ये भाषण तक सीमित
नई सदी के मानव की पर,सोच नहीं बिल्कुल बदली है।

नारी त्याग करुणा की देवी,दो सम्मान इसे जीवन में
ममता प्यार दुलार मिलेगा,ओ मानव ये सुख असली है।

जुर्म नहीं करना नारी पर,कहता भट्ट यही दुनिया से
कन्या का अस्तित्व बचेगा,तभी रहे पीढ़ी अगली है।

डॉ. दिनेश चन्द्र भट्ट,गौचर(चमोली)उत्तराखण्ड

Views 25
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
DrDinesh Bhatt
Posts 8
Total Views 179

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia