” ———————————————— रिश्ते ऐसे बुनते ” !!

भगवती प्रसाद व्यास

रचनाकार- भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "

विधा- गीत

दाना कोई चुगाते हैं यहां , कोई दाना चुनते !
खेल चुगाना चुगना जानो , जाल सदा यों बुनते !!

नेता और फरेबी बैठे , मुट्ठी बांध यहां पर !
अवसर चूक कहीं ना जाएं , लागे इसी लगन से !!

प्यार अगर है हमें बांटना , एक दूजे के हो लें !
अपने में मदहोश रहे तो , रह जाएं सिर धुनते !!

मिलना जुलना खुशी बढ़ाता , गति देता जीवन को !
मुस्कानों का हो बंटवारा , रिश्ते ऐसे बुनते !!

सेवा और सहयोग करें तो , मन भाता संतोष !
बार बार चाहत की कलरव , मौन भाव से सुनते !!

मौन निमंत्रण नेह का ऐसा , आकर्षण में बांधे !
इसिलए अनजान ये रिश्ते , बार बार हम चुनते !!

कुछ तुम पाओ कुछ पाएं हम , मिलता रहे बराबर !
बना रहे यह मौन सन्तुलन , इतना तो हम गुनते !!

हम उड़ान भरना अब सीखें , तुम सीखो मुस्काना !
देख देख कर लोग हमें अब , यों ही जलते भुनते !!

बृज व्यास

Sponsored
Views 139
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
भगवती प्रसाद व्यास
Posts 125
Total Views 29.5k
एम काम एल एल बी! आकाशवाणी इंदौर से कविताओं एवं कहानियों का प्रसारण ! सरिता , मुक्ता , कादम्बिनी पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन ! भारत के प्रतिभाशाली रचनाकार , प्रेम काव्य सागर , काव्य अमृत साझा काव्य संग्रहों में रचनाओं का प्रकाशन ! एक लम्हा जिन्दगी , रूह की आवाज , खनक आखर की एवं कश्ती में चाँद साझा काव्य संग्रह प्रकाशित ! e काव्यसंग्रह "कहीं धूप कहीं छाँव" एवं "दस्तक समय की " प्रकाशित !

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia