“रिंगटोन” (दिलों की)

Ankita Kulshreshtha

रचनाकार- Ankita Kulshreshtha

विधा- लघु कथा

रिंगटोन
******

"क्या सोच रही है सोना ?" कॉलेज के गार्डन में किताब खोलकर निगाहें आकाश में जमाए सोनाली से धौल जमाते हुए उसकी सहेली विन्नी ने पूछा ।
"आउच ..मारा क्यों ..कब आई तू ?"सोनाली ने मुंह बनाकर कहा ।
"जब तू दिन में तारे गिन रही थी " ठहाका लगाकर विन्नी ने कहा और सोना की किताब बंद करते हुए वहीं बैठ गई।दोनों सहेलियां खिलखिला उठीं।
"और बता कैसी रही बुआ के बेटे की शादी ?कब आई तू? पूरे पांच दिन हो गए हम दोनों को मिले … बहुत मिस कर रही थी तुझे .." विन्नी ने सवाल , शिकायत , शिकवे सबकी एक साथ झड़ी लगा दी । दोनों बेस्ट फ्रेंड जो थीं।
सोना ने विन्नी का हाथ पकड़कर मुस्कुरा कर कहा " मैने भी अपनी सहेली को बहुत मिस किया .. कल रात ही आई .. अच्छी रही शादी ..बहुत मजे किए.. बहुत प्यारी भाभी आई हैं" ।
"बहुत अच्छी बात है " विन्नी ने बैग से एक चॉकलेट निकालकर दो हिस्से किए और एक सोना को दे दिया ।
चॉकलेट खाते हुए सोना ने कहा "विन्नी तुझे पता है मुझे कौन सा गाना पसंद है ?"
"हां .. 'मोह मोह के धागे ' यही तो पसंद है तुझे .." विन्नी ने कहा " दिन भर में चार पांच बार यही तो सुनती रहती है और मुझे भी बोर कर दिया है जबरदस्ती सुना सुनाकर " विन्नी ने मजाक बनाते हुए कहा ।
"चल हट" सोनाली ने विन्नी के गाल पर हल्की सी थपकी जमाई " पता है कल जब हम बुआ के घर से आ रहे थे तब कोई बाइक पर उनके घर आया और विन्नी जब वो बाइक से उतर रहा था तब उसका मोबाइल बजा और पता है उसके फोन की रिंगटोन भी यही थी 'मोह मोह के धागे' "।
"सोना मतलब ये गाना तूने अपने नाम खरीद लिया है क्या कि कोई और सुन भी नहीं सकता ? हद है" विन्नी ने झल्लाते हुए कहा।
"अरे नहीं यार .. बस देखना चाहती थी कि मेरे जैसी पसंद और किसकी हो सकती है .. वैसे भी आजकल के लड़के तो हनी सिंह के गाने लगाते हैँ रिंगटोन..
पर हेलमेट लगा था तो देख नहीं पाई .."सोनाली ने कहा।
"ओहो तो ये बात है .. मैडम को बिन देखे प्यार हो गया है वो भी रिंगटोन पर .. हहाहाहा … सोना तू न अजीब है .. कोई अंकल भी तो हो सकते थे " विन्नी बमुश्किल अपनी हंसी रोककर बोली ।
" पागल है क्या " सोना थोङा गुस्से में बोली " प्यार व्यार ऐसे थोड़े न होता बस कुतूहल था और विश्वास भी इंसान जो भी हो अच्छा इंसान होगा ..और कुछ नहीं .. " अच्छा चल क्लास का टाइम हो गया है "
दोनों क्लास की ओर चल दीं।
कुछ एक महीने बाद सोनाली कॉलेज से घर आई तो ड्राइंग रुम में कुछ रिश्तेदार बैठे हुए थे। सबको अभिवादन करते हुए थकी हुई सोना अपने रूम में आकर बैड पर पसर गई तभी उसकी मम्मी अंदर आईं।
" बेटा बाहर जो लोग बैठे हुए हैं वो तुम्हारा हाथ मांगने आए हैं, लड़का विद्युत विभाग में अॉफीसर है .. परिवार भी अच्छा है .. मुझे और तुम्हारे पापा को तो लड़का पसंद है ..तुम और देख लो और अपनी हां या ना बता दो.. जल्दी फ्रेश और रेडी होकर आ जाओ .." मम्मी ने स्नेह से सोना के बाल सहला कर कहा और नाश्ते के इंतजाम के लिए चली गईं।
कुछ देर बाद सोना ड्राइंग रुम में थी।
हल्का अॉरेंज कलर का सूट पहने सोनाली बहुत प्यारी लग रही थी । वैसे भी सुंदर तो बहुत है ही वो।उसकी मम्मी उसे देखे जा रही थीं कि कहीं लाड़ो को नजर न लग जाए मौका मिले तो कान पर काला टीका लगा दूं।
कुछ देर औपचारिक बातें होती रही ।
फिर बड़े लोगों ने कहा दोनों बच्चों को कुछ देर एकांत में बात कर लेने दी जाए । जिससे सहमति – असहमति पर सोच सकें ।
सोनाली और विपिन आमने सामने बैठे थे सोना के कमरे में।
सोना चुप थी।
विपिन ने ही शुरूआत की " मैं विपिन , कुछ दिन पहले आपको एक शादी में देखा था .. बहुत पसंद आईं आप मुझे . . किसी तरह आपके बारे में पता करके मम्मी पापा को आपके घर लाया हूँ।
पर अगर आपको इस रिश्ते से इंकार हो तो बोल दीजिए। आप अपने डिसीजन के लिए स्वतंत्र हैं।
सोना सोच रही थी कि लड़का बुरा नहीं .. सभ्य भी है.. मां पापा को भी पसंद है .. हां कर दूं ।
सोना बोलने को हुई तभी अचानक माहौल में एक गीत लहरी गूंज उठी ..
" ये मोह-मोह के धागे"
विपिन का फोन बज रहा था उसी की रिंगटोन थी ।
सोनाली की आंखे सुखद आश्चर्य से फैल गईं।दिल में तितलियां उडने लगींं।
"वाह भगवान जी आप भी अच्छा सरप्राइज देते हो .. जिसे देखना चाहा वो खुद नज़रों के सामने है आज़…. हेलमेट उसी ने तो लगा रखा मैने तो नहीं.. तभी विपिन ने मुझे देखा।" खुश होकर सोनाली ने मन मन में कहा।
"तो क्या जबाब है आपका सोनाली " विपिन ने कहा।
" जी मैं तैयार हूँ इस रिश्ते के लिए " कहते हुए सोनाली का दिल बल्लियों उछल रहा था।
कुछ दिन बाद रिंग सेरेमनी में विपिन सोनाली की उंगली में सगाई की अंगूठी पहना रहा था और सोनाली के मन में वही गाना गूंज रहा था ….
" ये मोह मोह के धागे
तेरी उंगलियों से जा उलझे
कोई टोह टोह न लागे
किस तरह गिरह ये सुलझे"

अंकिता

Sponsored
Views 772
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Ankita Kulshreshtha
Posts 36
Total Views 2.6k
शिक्षा- परास्नातक ( जैव प्रौद्योगिकी ) बी टी सी, निवास स्थान- आगरा, उत्तरप्रदेश, लेखन विधा- कहानी लघुकथा गज़ल गीत गीतिका कविता मुक्तक छंद (दोहा, सोरठ, कुण्डलिया इत्यादि ) हाइकु सदोका वर्ण पिरामिड इत्यादि|

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia
2 comments