राहें

Raj Vig

रचनाकार- Raj Vig

विधा- कविता

खुद ब खुद
बदल गयी हैं राहें
मंजिल का पता
बता रही हैं राहें
जाना था किधर
कहां जा रही हैं राहें
मुश्किल थी बहुत
आसान हो गयी हैं राहें
देखे न थे जो ख्वाब
हकीकत बना रही हैं राहें
किसी के पास किसी से दूर
ले जा रही हैं राहें
मुस्करा रहा है तन मन
महक रही हैं राहें
मिलेगा मुकद्दर यहीं पर
वादा निभा रही हैं राहें ।।

राज विग

Sponsored
Views 73
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Raj Vig
Posts 47
Total Views 2.4k

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia