राखी का त्योहार

RAMESH SHARMA

रचनाकार- RAMESH SHARMA

विधा- दोहे

उत्साहित है हर नगर ,शहर गली बाजार !
रक्षा बंधन का पुनित, आया है त्यौहार !!

फीका फीका सा लगे, राखी का त्यौहार !
जी अस टी के साथ मे,आया जो इस बार !!

बहना का तो प्यार है,भाई का विश्वास !
राखी की इस डोर में,रिश्तों का अहसास !!

राखी का त्योहार है,,,,सजने लगी दुकान !
हर बहना के हाथ में, दिखता है मिष्ठान !!

कन्या भ्रूण का कोख में, करते है सँहार !
खतरे में लगने लगा,बहनों का त्यौहार !!

हो जाता है कोख में, कन्या भ्रूण सँहार !
कैसे होगी भावना, राखी की साकार !!

कन्याओं के साथ में, किया हुआ खिलवाड़ !
दुनिया को ही एक दिन , देगा सकल उजाड़ !!

बेटे को इज्जत मिले, बेटी को दुत्कार !
रक्षाबंधन का वहां,रहा नहीं फिर सार !!
रमेश शर्मा..

Views 23
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
RAMESH SHARMA
Posts 167
Total Views 2.6k
अपने जीवन काल में, करो काम ये नेक ! जन्मदिवस पर स्वयं के,वृक्ष लगाओ एक !! रमेश शर्मा

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia