रमेशराज की तीन ग़ज़लें

कवि रमेशराज

रचनाकार- कवि रमेशराज

विधा- गज़ल/गीतिका

|| ग़ज़ल ||–1
घनी उदासी अपने पास
बुझी नहीं अधरों की प्यास।
भले न ये दर्दालंकार
मत दे घावों के अनुप्रास।
अपनों से ये कैसी लाज?
तेरे मेरे रिश्ते खास।
इधर चुभन टीसों का दौर
क्या मन रहता उधर उदास?
मन मेरा तुझसे अनुबद्ध
कैसे छोडूँ तेरी आस।
जो पल बीते सँग में ‘राज’
उनकी अब भी मधुर सुवास।
+रमेशराज

|| ग़ज़ल ||—2
प्यार हमारा, मन बंजारा, जख्मों से कर डाला
गाती-मुस्काती आँखों को फिर मेघों से भर डाला।
ये दिल तो था सिर्फ तुम्हारा, मीत सहारा इसके तुम
आर-पार इसके पर तुमने झट से खंजर का डाला।
मीत तुम्हारी, आदत प्यारी बदली तो ऐसी बदली
कस्तूरी रागों में तुमने नित तेजाबी स्वर डाला।
जिसमें मेरे नन्हे-मुन्नों सपनों की किलकारी थी
तुमने मुस्काते परिचय में शक-संशय का डर डाला।
यह मदमाती छल-पफरेब की दुनिया तुम्हें मुबारक हो
जिसने आज हमारे मन पर दुःख से भरा असर डाला।
+रमेशराज

|| ग़ज़ल ||—-3
सोने-चाँदी वाले तुमको बँगले की रौनक भायी
इस निर्धन की कुटिया-लुटिया रास नही प्रियतम आयी।
तुम क्या जानो इन्तजार की, प्रीति-प्यार की तड़पन को
हमने हारे, सभी सहारे, आँख हमारी पथरायी।
मरते दम तक, बनकर याचक, हक माँगेंगे अपना हम
बनो दुःखद दस्तूर-नूर तुम, हम न कहेंगे हरजायी।
तुमने उड़ना सीख लिया तो उड़ो अजनबी उस नभ में
अपनी इस ज़मीन की प्यारी हमको हैं खंदक-खायी।
+रमेशराज
———————————————-
रमेशराज, 15/109, ईसानगर, अलीगढ़
मो.-९६३४५५१६३०

Sponsored
Views 1
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
कवि रमेशराज
Posts 267
Total Views 4.4k
परिचय : कवि रमेशराज —————————————————— पूरा नाम-रमेशचन्द्र गुप्त, पिता- लोककवि रामचरन गुप्त, जन्म-15 मार्च 1954, गांव-एसी, जनपद-अलीगढ़,शिक्षा-एम.ए. हिन्दी, एम.ए. भूगोल सम्पादन-तेवरीपक्ष [त्रैमा. ]सम्पादित कृतियां1.अभी जुबां कटी नहीं [ तेवरी-संग्रह ] 2. कबीर जि़न्दा है [ तेवरी-संग्रह]3. इतिहास घायल है [ तेवरी-संग्रह एवम् 20 स्वरचित कृतियाँ | सम्पर्क-9634551630

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia