रमेशराज का एक पठनीय तेवरी संग्रह “घड़ा पाप का भर रहा ” +डॉ. हरिसिंह पाल

कवि रमेशराज

रचनाकार- कवि रमेशराज

विधा- लेख

रमेशराज का एक पठनीय तेवरी संग्रह “घड़ा पाप का भर रहा ”

+डॉ. हरिसिंह पाल
———————————————————–
समीक्ष्य कृति “घड़ा पाप का भर रहा ” की पंक्तियाँ समकालीन समाज की विसंगतियों , विरोधाभासों और विद्रूपताओं पर करारी चोट करती प्रतीत होती हैं | काव्यकला निश्चय ही भाषा द्वारा भावों की साधना होती है , इस कला में आप (रमेशराज) निपुण हैं | आपकी यह लम्बी तेवरी मन को छूती है
“घड़ा पाप का भर रहा ” नामक काव्य कृति तेवरी काव्य विधा को समर्पित कथ्य और शिल्प की दृष्टि से पठनीय कृति है | रमेशराज ने तेवरी विधा को प्रतिष्ठापित करने में जो सक्रिय भूमिका निभाई है वह सराहनीय है | आप मेरे गृह जनपद अलीगढ़ में रहकर साहित्य की सेवा कर रहे हैं , यह मेरे लिए आत्मीयता से परिपूर्ण तथ्य है , दूसरे आप और हम लगभग समवयस्क भी हैं | आपकी साहित्यिक उपलब्धियां आकर्षित करती हैं |
“घड़ा पाप का भर रहा ” कृति की लम्बी तेवरी मन को छूती है इसके लिए रमेशराज विशेष बधाई के पात्र हैं | “मौत न हो ” विषय को लेकर आपने “तेवर शतक ” की रचना कर दी , यह हिंदी काव्य जगत की अनूठी घटना है | आपकी ये पंक्तियाँ तो तेवरी को ही व्याख्यायित कर देती हैं ….
शब्द शब्द से और कर व्यंग्यों की बौछार
यही कामना तेवरियों में अभिव्यंजन की मौत न हो |
साथ ही अपने ग़ज़ल और तेवरी का सीमांकन कर नयी दिशा दी है-
आलिंगन के जोश को कह मत तू आक्रोश
ग़ज़लें लिख पर कथ्य काफ़िया और वज़न की मौत न हो |
तेवरीकार श्री रमेशराज द्वारा रचित तेवरी संग्रह “ घड़ा पाप का भर रहा ” की तेवरियों में भाव की प्रवहमन्यता के आगे भाषा की दीवार भरभराकर गिर पड़ी है | हिंदी के तत्सम तद्भव और देशज शब्दों के साथ-साथ आंग्ल और अन्य विदेशी ( अरबी, फारसी, पुर्तगाली आदि ) के भी शब्द बेरोकटोक बहते चले आये हैं | यथा – टाई पेंट, सूट | जहाँ अंग्रेजी के शब्द – गारंटी, डिस्कोक्लब, शर्ट, ऑनरकिलिंग , सिस्टम , कमेटी आदि प्रयुक्त हुए हैं वहीं उर्दू के रहबर, दलाल, जुआ, यार , दावपेंच, शाद, रौशनी, जोश, काफिया, खाक , आफत , खिलवाड़ , बर्बर , फतह , जंजीर , तंगजहन आदि शब्दों के साथ –साथ नये-नये शब्द अपनी ओर से गढ़कर तेवरीकार ने तेवरी की आत्मा में जगह बनाये रखने में सफलता पायी है तथा नव चटकन , नव चिन्तन , वलयन, हिंदीपन , किलकन , घुटुअन , काव्यायन, शब्दवमन, आयन , जैसे शब्दों का प्रयोग निस्संदेह शब्दसाधना का ही सुपरिणाम है |
“ घड़ा पाप का भर रहा ” तेवरी संग्रह की लम्बी तेवरी के अंत में सर्प कुण्डली राज छंद में तेवरी प्रस्तुत कर श्री रमेशराज ने एक अभिनव प्रयोग किया है जो पूर्णतया सफल है |हिंदी का ‘सिंहावलोकन’ छंद भी लगभग इसी प्रकार का है | ‘सिंहावलोकन’ में जहाँ काव्यपंक्ति का अंतिम काव्यांश अगली काव्य पंक्ति का अंश बनता है वहीं सर्प कुण्डली में काव्यपंक्ति का अंतिम काव्यांश या अर्धाली अगली पंक्ति को बनाती है | अस्तु एक ही पुस्तकनुमा कृति में काव्य के दो दो छंदों से सहज ही परिचय हो जाता है |
श्री रमेशराज की पत्रिका ‘तेवरीपक्ष ’ मन को आनन्द प्रदान करती है | तेवरी साहित्य यात्रा अनवरत जारी रहे , यही वाग्देवी से प्रार्थना है
" घड़ा पाप का भर रहा " तेवरी श्री रमेश राज जी का लाजबाब तेवरी शतक है | इसमें हिन्दी छंद का प्रयोगधर्मी स्वरुप आपको देखने को मिलता है | इस शतक के प्रत्येक तेवर की पहली पंक्ति दोहे की अर्धाली ( 13 , 11 पर यति ) व् दूसरी पंक्ति चौपाई छंद ( 16 मात्राएँ पर यति , व् 14 मात्राएं पर विराम लिए हुए हैं )| इस शतक का एक एक तेवर तलवार की धर से भी अधिक पैना है | इस शतक के तेवर एक ओर जहाँ कुव्यवस्था पर वार करते हैं वहीं दूसरी ओर सुव्यवस्था की राह भी सूझाते हैं | "हाथ उठा सबने किया , अत्याचार विरोध | जड़ने के संकल्प न टूटें, अनुमोदन की मौत न हो " इतना ही नहीं भोली भाली जनता को आगाह करते हुए कहते हैं कि – "ये बाघों का देश है , जन जन मृग का रूप | अब तो चौकस रहना सीखो , किसी हिरन की मौत न हो |" इतना ही नहीं आगे जनता को समझाते हुए कहते हैं कि "संसद तक भेजो उसे जो जाने जन -पीर | नेता के लालच के चलते , और वतन की मौत न हो " |
रमेशराज जी लम्बी तेवरी-तेवर शतक “घड़ा पाप का भर रहा ” की जितनी तारीफ की जाए उतनी ही कम है | रमेश जी गागर में सागर भर दिया है | जनमानस के सरोकारों को मुखरित करने के लिए रमेशजी की रचना धर्मिता प्रसंशनीय है | तेवरी विधा में यह शतक हिन्दी साहित्य में मील का पत्थर साबित होगा | रमेश जी को एवं उनकी लेखनी को हार्दिक बधाई एवं अनंत शुभकामनाएं |
——————————————————————–
+डॉ. हरिसिंह पाल , प्रसारक – आकाशवाणी , दिल्ली

बेहतरीन साहित्यिक पुस्तकें सिर्फ आपके लिए- यहाँ क्लिक करें

Views 10
इस पेज का लिंक-
Sponsored
Recommended
Author
कवि रमेशराज
Posts 260
Total Views 2k
परिचय : कवि रमेशराज —————————————————— पूरा नाम-रमेशचन्द्र गुप्त, पिता- लोककवि रामचरन गुप्त, जन्म-15 मार्च 1954, गांव-एसी, जनपद-अलीगढ़,शिक्षा-एम.ए. हिन्दी, एम.ए. भूगोल सम्पादन-तेवरीपक्ष [त्रैमा. ]सम्पादित कृतियां1.अभी जुबां कटी नहीं [ तेवरी-संग्रह ] 2. कबीर जि़न्दा है [ तेवरी-संग्रह]3. इतिहास घायल है [ तेवरी-संग्रह एवम् 20 स्वरचित कृतियाँ | सम्पर्क-9634551630

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia