*रक्षाबंधन*

Prashant Sharma

रचनाकार- Prashant Sharma

विधा- कविता

*रक्षाबंधन*

बहिन का वंदन भाई का चंदन
कलाई में रक्षा का वरदान है।
भाई बहन के प्रेम का बंधन
रक्षाबंधन संस्कृति की पहचान है।

श्रावण में बरसात की फुहारें
करती इस बंधन का गुणगान है।
भाई बहन को आज मिलाता
रक्षाबंधन संस्कृति की पहचान है।

जीवन सारा संग बिताया।
रस्मो से होती अलग पहचान है।
भाई बहन को बचपन देता
रक्षाबंधन संस्कृति की पहचान है।

प्रेम की धागा की ताकत देखो
बन जाता रिश्तो की पहचान है।
भाई बहन का शाश्वत बंधन ये
रक्षाबंधन संस्कृति की पहचान है।

*प्रशांत शर्मा "सरल*"
*नरसिंहपुर*

Sponsored
Views 28
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Prashant Sharma
Posts 33
Total Views 1.2k

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia