योग

Dr Archana Gupta

रचनाकार- Dr Archana Gupta

विधा- दोहे

आज योग दिवस पर कुछ दोहे

1
सुख सुविधाओं का बनो ,देखो नहीं गुलाम
देकर तन को कष्ट कुछ, नित्य करो व्यायाम
2
योगासन गर नित करो , दूर रहेंगे मर्ज़
करना लोगों को सजग, हम सबका है फ़र्ज़
3
तन मन दोनों की यहाँ , बनी रहेगी खैर
रोज सवेरे गर करो, तेज़ कदम से सैर
4
सांसों का ही खेल है, कहते जिसको योग
करते हैं ये बिन दवा, सही यहाँ सब रोग
5
जम कर करती है वसा, दिल का ट्रैफिक जाम
पिघला सकते हैं इसे, करके प्राणायाम

डॉ अर्चना गुप्ता

Views 59
Sponsored
Author
Dr Archana Gupta
Posts 231
Total Views 14.1k
Co-Founder and President, Sahityapedia.com जन्मतिथि- 15 जून शिक्षा- एम एस सी (भौतिक शास्त्र), एम एड (गोल्ड मेडलिस्ट), पी एचडी संप्रति- प्रकाशित कृतियाँ- साझा संकलन गीतिकालोक, अधूरा मुक्तक(काव्य संकलन), विहग प्रीति के (साझा मुक्तक संग्रह), काव्योदय (ग़ज़ल संग्रह)प्रथम एवं द्वितीय प्रमुख पत्र पत्रिकाओं में रचनाएँ प्रकाशित।
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia