यूँ ही कभी कभी

सन्दीप कुमार 'भारतीय'

रचनाकार- सन्दीप कुमार 'भारतीय'

विधा- शेर

१.
दिले-ऐ-नादान को सुकून की तलाश है
जो बंद है तेरे चन्द अल्फाजों के भीतर |

२.
दीदार-ऐ-यार को तरस रही थी आँखें
तेरी तस्वीर देख के कुछ सुकून आया |

३.
हर सांस के साथ एक आह सी निकलती है
तेरे चेहरे पे जब मायूसी का आलम होता है |

४.
फ़रिश्ते मंडरा रहे थे मेरी जाँ ले जाने को
आब-ऐ-हयात बनकर तेरी दुआ आ गयी |

५.
तेरी एक अदद मुस्कराहट का तलबगार है ये दिल
कानों को तेरी बढ़ी हुई धडकनों ने बेचैन किया है |

६.
तुझसे दूरी का सोचना भी दिल को तकलीफ देता है
तुम हो की बात बात पर दूर जाने की बात करते हो |

७.
तुमने जो जज़्बात छुपाये हैं मुखौटे के पीछे
बता दो तुम्हारी इस बेरुखी की वजह क्या है |

८.
तुझे क्या मालूम कितना कितना डरते हैं तुझे खोने से
हर सांस पे जान निकलती है तुझे खोने के एहसास से |

९.
तुम जा तो रहे हो मुझसे मुंह फेरकर
क्या हो अगर हम फिर दिखे ही नहीं |

१०.
हालातों के हाथों मजबूर खिलौना हूँ मैं
वर्ना छीन लिया होता तुझे जहां वालों से |

११.
तुझे खबर है अपनी जान का दुश्मन नहीं हो सकता मैं
मेरी जान अमानत है तेरी जो मेरे पास महफूज रखी है |

१२.
मुहूर्त निकला है घर जा के बयाँ करेंगे दिल के जज़्बात
क्या हो ग़र खुदा ने मुझे मोहलत ही न दी तेरे जाने तक |

१३.
मेरे खुदा मुझे मोहलत बख्श देना चन्द लम्हातों की
मैं निगहबान हूँ मेरी जान अमानत है किसी और की |

"सन्दीप कुमार"

मेरा ब्लॉग : sandeip01.blogspot.in/2016/06/blog-post_14.html?spref=fb

Sponsored
Views 119
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
सन्दीप कुमार 'भारतीय'
Posts 63
Total Views 6.1k
3 साझा पुस्तकें प्रकाशित हुई हैं | दो हाइकू पुस्तक है "साझा नभ का कोना" तथा "साझा संग्रह - शत हाइकुकार - साल शताब्दी" तीसरी पुस्तक तांका सदोका आधारित है "कलरव" | समय समय पर पत्रिकाओं में रचनायें प्रकाशित होती रहती हैं |

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia