याद शहर

सन्दीप कुमार 'भारतीय'

रचनाकार- सन्दीप कुमार 'भारतीय'

विधा- लघु कथा

' याद शहर
*********

एक रोज मै याद शहर में यूँ ही उदास बैठा था। सड़क पर कोहरे की चादर फैली हुई थी । मैने देखा उस कोहरे की धुंध को चीरते हुए तुम लाल सुर्ख साड़ी पहने तमाम श्रृंगार किये हाथों में थाल सजाये चली आ रही थी । थोड़ा पास आयी तो मैने तुम्हे पहचान लिया । होठों पर आज भी वही चिरपरिचित मुस्कान थी । मेरा मन तुम्हे देखकर खुशियों से भर गया । आखिरकार 20 महीनों के लम्बे अर्से के बाद तुम लौट आयी थी अपने भाई की कलाई पर राखी बांधने के लिए । तुमने हाथ बढ़ाकर मेरी कलाई पर राखी बाँधी, तिलक किया और मेरी लम्बी उम्र के लिये कामनायें की । मैने तुम्हे नेग देने के लिये जेब में हाथ डाला, मगर मेरी जेब में कुछ नही था । तुम्हारी तरफ देखा तो तुम धीरे धीरे उसी कोहरे में अदृश्य हो रही थी जिधर से तुम आयी थी । मै तुम्हे आवाज लगाकर रोकना चाहता था, मगर मेरी आवाज अवरुद्ध थी, हाथ बढ़ा कर तुम्हे पकड़ना चाहा मगर तुम बहुत दूर जा चुकी थी ।

तभी किसी ने मुझे झिंझोड़ कर उठा दिया । मेरे हाथ अभी भी ऊपर उठे हुए थे । सब पूछने लगे तुम नींद में क्या बड़बड़ा रहे थे । मै कुछ नही कह पाया, अपने उठे हुए हाथ को देखकर बस मुस्कुराता रहा ।

याद शहर प्रकृति के नियमों से बँधा हुआ नही है वहाँ सर्दियों में भी राखी आ सकती है । वहाँ इंसान मरा नही करते अमर होते हैं ।

" सन्दीप कुमार "

सर्वाधिकार सुरक्षित

मौलिक और अप्रकाशित

Sponsored
Views 5
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
सन्दीप कुमार 'भारतीय'
Posts 63
Total Views 5k
3 साझा पुस्तकें प्रकाशित हुई हैं | दो हाइकू पुस्तक है "साझा नभ का कोना" तथा "साझा संग्रह - शत हाइकुकार - साल शताब्दी" तीसरी पुस्तक तांका सदोका आधारित है "कलरव" | समय समय पर पत्रिकाओं में रचनायें प्रकाशित होती रहती हैं |

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia