याद दिल में तो बसी है तेरी

Pritam Rathaur

रचनाकार- Pritam Rathaur

विधा- गज़ल/गीतिका

ग़ज़ल
******
बन गयी है मेरी खुशी तेरी
हो चुकी है ये जिन्दगी तेरी
🍁
मीठी बातों से से जग ये लूट लिया
कितनी अच्छी बहादुरी तेरी
🍁
आज छत पर भी मेरे आई है
शुक्रिया चाँद चाँदनी तेरी
🍁

फूल खिल जाते जब तू हँसती है
भा गयी दिल को ये हँसी तेरी

🍁
वो सलासिल से बाँधकर पूछे
कह दे ख़्वाहिश जो आख़िरी तेरी

🍁
ग़म की राहों में देती हैं रस्ता
यादें बनकर के रौशनी तेरी

🍁
भूलने वाले देख ले आकर
आज भी खलती है कमी तेरी

🍁

फूल-ओ-चाँद रश्क़ करते हैं
देख कर जानां सादगी तेरी
🍁

जा रहा बज़्म से नहीं तन्हा
याद दिल में तो है बसी तेरी

🍁
क्या फ़लक से तू चलके आई है
चाँद से शक्ल —–मिल रही तेरी

🍁
मात खा जाएँ देख कर "प्रीतम"
फूल कलियाँ —-ये नाजुकी तेरी
🍁
प्रीतम राठौर भिनगाई
श्रावस्ती (उ०प्र०)
11/09/2017
🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷
2122–1212–22/112
🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷

Sponsored
Views 2
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Pritam Rathaur
Posts 167
Total Views 1.5k
मैं रामस्वरूप राठौर "प्रीतम" S/o श्री हरीराम निवासी मो०- तिलकनगर पो०- भिनगा जनपद-श्रावस्ती। गीत कविता ग़ज़ल आदि का लेखक । मुख्य कार्य :- Direction, management & Princpalship of जय गुरूदेव आरती विद्या मन्दिर रेहली । मानव धर्म सर्वोच्च धर्म है मानवता की सेवा सबसे बड़ी सेवा है। सर्वोच्च पूजा जीवों से प्रेम करना ।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia