यादों के झोकें

Raj Vig

रचनाकार- Raj Vig

विधा- कविता

यादों के तेरे जब
झोकें चले आते हैं
सांसों मे तेरी महकों के
गुलाब चले आते हैं ।

ख्वाबों मे गुजरे हुए
हसीन वो पल चले आते हैं
उठती हुई दिल की तंरगों मे
तरन्नुम के सुर चले आते हैं ।

जीने को उन पलो को दोबारा
मचले हुए अरमान चले आते हैं
जन्म जन्म तुझे पाने को
मधुर मधुर अहसास चले आते हैं ।

तन्हा अंधेरी रातों मे
तेरे साये चले आते हैं
भूल न जाऊं तुझे इक पल को
जताने तेरा प्यार चले आते हैं ।

राज विग

Views 127
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Raj Vig
Posts 41
Total Views 2.1k

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia