” यहाँ ज़िंदगी , बोझ तले है ” !!

भगवती प्रसाद व्यास

रचनाकार- भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "

विधा- गीत

निज का काम ,
निज को साजे !
हाथ पैर को ,
कब तक बांधें !
सदा बोझ को
ढोते आये –
मजबूत अभी ,
जानो कांधे !
खुशियां यहां ,
बड़ी दूर हैं –
यहां जिंदगी ,
गले गले है !!

पीछे छोड़ा
आज समय को !
हमें जीतना
आज समर तो !
अब दूर खड़ी
हैं बाधाएं ,
यहां हारना –
आज उमर को !
घूंट घूंट भर
पी है पीड़ा –
यहां जिंदगी ,
तभी पले है !!

रोटी, पेट है ,
आगे आया !
इसने हमको ,
है धमकाया !
यों लक्ष्य सदा
छूटा हाथों –
परिश्रम का ही ,
है सरमाया !
हार जीत क्या
खोया पाया –
यहां जिंदगी
कभी खले है !!

आस निरास का ,
खेल निराला !
हाथ रहा है ,
खाली प्याला !
बूंद बूंद को
रहे तरसते ,
कठिनाई से –
मिला निवाला !
उम्मीदों ने
सींची आशा –
यहां जिंदगी ,
हमें छले है !!

बृज व्यास

Sponsored
Views 210
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
भगवती प्रसाद व्यास
Posts 121
Total Views 29.1k
एम काम एल एल बी! आकाशवाणी इंदौर से कविताओं एवं कहानियों का प्रसारण ! सरिता , मुक्ता , कादम्बिनी पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन ! भारत के प्रतिभाशाली रचनाकार , प्रेम काव्य सागर , काव्य अमृत साझा काव्य संग्रहों में रचनाओं का प्रकाशन ! एक लम्हा जिन्दगी , रूह की आवाज , खनक आखर की एवं कश्ती में चाँद साझा काव्य संग्रह प्रकाशित ! e काव्यसंग्रह "कहीं धूप कहीं छाँव" एवं "दस्तक समय की " प्रकाशित !

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia