मौन (शांत)की ताकत

अमित मिश्र

रचनाकार- अमित मिश्र

विधा- मुक्तक

मौन की शक्ति पर खुद से,
कभी व्याख्यान न होता ।
दिशाएँ मौन ही रहती,
मनुज गर शांति ब्रत करता।।

महादुर्धश समर इतना ,
कभी विकराल न होता ।।
द्रुपद कन्या अगर उस वक्त,
केवल मौन ही रहती ।।

Sponsored
Views 12
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
अमित मिश्र
Posts 10
Total Views 228
अमित मिश्र शिक्षा - एम ए हिंदी, बी एड , यू जी सी नेट पता- 73 नारायण नगर जनपद हरदोई (उत्तर प्रदेश) जवाहर नवोदय विद्यालय वेस्ट खासी हिल्स मेघालय में कार्यरत । मोबाइल नंबर 9838449099 ई मेल amitkumarmishra0001@gmail.com

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia