मौन आंखें

Rita Yadav

रचनाकार- Rita Yadav

विधा- कविता

मौन आंखे

मौन आंखे बोलती है ,
भेद हृदय का खोलती है l
हृदय है या दुख का दरिया ,
मन ही मन टटोलती है l

दुखों का सम्राज्य दिल पर,
इस कदर हावी हुआ हैl
बढ़ता ही जा रहा है दर्द ,
दर्द -ए- दिल इक साज हुआ है l

असमंजस में है ये आंखे ,
नई उम्मीद की राहे ताके l
तिमिर दुखों का छट जाए ,
हृदय का प्रलय हट जाए l

हर्ष की किरणें प्रस्फुटित हो ,
स्नेह, विश्वास, उम्मीद लेकर l
हृदय प्रेम प्रकाश रूपी ,
किरणों से फिर प्रमुदित हो l

रीता यादव

Views 7
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Rita Yadav
Posts 24
Total Views 745

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia