मोती बनते ओस के , जब रोती है रात

Dr Archana Gupta

रचनाकार- Dr Archana Gupta

विधा- कुण्डलिया

मोती बनते ओस के , जब रोती है रात
पी लेता सूरज उन्हें , समझ एक सौगात
समझ एक सौगात,रहे व्याकुल गर्मी से
संध्या में ही पेश, जरा आता नर्मी से
सुबह अर्चना रोज , धूप के दाने बोती
तभी बिखेरे रात ,ओस के देखो मोती

डॉ अर्चना गुप्ता

Views 40
Sponsored
Author
Dr Archana Gupta
Posts 223
Total Views 13.3k
Co-Founder and President, Sahityapedia.com जन्मतिथि- 15 जून शिक्षा- एम एस सी (भौतिक शास्त्र), एम एड (गोल्ड मेडलिस्ट), पी एचडी संप्रति- प्रकाशित कृतियाँ- साझा संकलन गीतिकालोक, अधूरा मुक्तक(काव्य संकलन), विहग प्रीति के (साझा मुक्तक संग्रह), काव्योदय (ग़ज़ल संग्रह)प्रथम एवं द्वितीय प्रमुख पत्र पत्रिकाओं में रचनाएँ प्रकाशित।
इस पेज का लिंक-

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


Sponsored
Related Posts
हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia
One comment