मोक्ष

डा. सूर्यनारायण पाण्डेय

रचनाकार- डा. सूर्यनारायण पाण्डेय

विधा- कविता

मोक्ष..
'मानव की अंतिम इक्छा का,
एक अबुझ पहेली,
क्या 'जीवन' के कर्मों से मुक्त होना है मोक्ष
या इस नश्वर शरीर को त्यागना है मोक्ष
विचारें,
क्या शरीर से आत्मा का अलग होना है मोक्ष.
त्रिलोक का यह अनोखा 'शब्द'
जो न जाने कितने रूप से परिभाषित है
जितने पंथ उतनी व्याख्याएं
पर कितना सरल है
इसको इस रूप में
परिभाषित करना-
कर्म की निरंतरता है मोक्ष
मानव की सेवा में संलिप्त हो जाना है मोक्ष
ईश्वर के प्रतिनिधित्व को निभाना है यह मोक्ष
यह मोक्ष
न धार्मिक कर्मकाण्ड है
और न कोई जटिल प्रक्रिया
यह है अमिट छाप छोड़कर
शरीर को त्यागने के सत्य को स्वीकार करने की कला
यह है-
प्रभु द्वारा प्रदत्त शक्ति का
मानवता की
सेवा में
यथावत् समर्पित करना.

Views 43
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
Posts 24
Total Views 996
देश की विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में 1000 से अधिक लेख, कहानियां, व्यंग्य, कविताएं आदि प्रकाशित। 'कर्फ्यू में शहर' काव्य संग्रह मित्र प्रकाशन, कोलकाता के सहयोग से प्रकाशित। सामान्य ज्ञान दिग्दर्शन, दिल्ली : सम्पूर्ण अध्ययन, वेस्ट बंगाल : एट ए ग्लांस जैसी बहुचर्चित कृतियां 'उपकार प्रकाशन' से प्रकाशित। प्रत्येक चार माह पर समसामयिक सीरीज का लगातार प्रकाशन, 'अंचल भारती' पत्रिका का सह-सम्पादन ।मो9450017326

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia