मै लिखता जो गीत नही है जीवन की सच्चाई है !!

Ashish Tiwari

रचनाकार- Ashish Tiwari

विधा- कविता

मै लिखता जो गीत नही है जीवन की सच्चाई है !
जब जब भी दुःखदर्द है देखा अपनी कलम चलाईं है !!

जब घुटनों के बल चलता था तब मुझको न खलता था !
अलग किया जब अपनों ने तब देख मेरा दिल जलता था !!

दादा जी गुजर चुके थे हिस्से में दादी भी न आई है !
मै लिखता जो गीत नही है जीवन की सच्चाई है !!

देख गरीबी सब ने मेरी अपना कसर निकाला है !
बच्चो का तो पेट भरा माँ खाया नही निवाला है !

सच कहता हूँ यार प्रभु ने सबकी लाज बचाई है !
मै लिखता जो गीत नही है जीवन की सच्चाई है !!

पापा जी परदेस में रहते घर में तो मालिकाना था !
जग में रोशन नाम हो अपना ऐसा हमने ठाना था !!

लाख बुरा हूँ लेकिन मुझमें थोड़ी सी अच्छाई है !
मै लिखता जो गीत नही है जीवन की सच्चाई है !!

कुछ लोगो ने मार्ग परिवर्तित कर मुझको भत्काया था !
अब क्या होगा इस जीवन क्या सोच सोच घबराया था !!

मेरे मम्मी पापा इतने अच्छे लक्ष्मण जैसे भाई है !
मै लिखता जो गीत नही है जीवन की सच्चाई है !!

चला गाया मै उस रस्ते में जहां घनघोर अँधेरा था !
चिलम चढाये बैठे रहते न दिन रात सबेरा था !!

देख लिया हमने जग सारा अपनों से ठोकर खाई है !
मै लिखता जो गीत नही है जीवन की सच्चाई है !!

मै मूर्ख नही यारों जो अपने बारे में लिखता रहता हूँ !
मेरे इस गलती से सीखो कविता के द्वारा कहता हूँ !!

का वर्षा जब कृषि सुखाने कॉलेज डिग्री पाई है !
मै लिखता जो गीत नही है जीवन की सच्चाई है !!

Sponsored
Views 110
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Ashish Tiwari
Posts 45
Total Views 3k
love is life

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia
4 comments