मै भूला दूं तुझे

अभिषेक पाण्डेय

रचनाकार- अभिषेक पाण्डेय

विधा- गीत

मै भूला दूं तुझे बोलो कैसे पिया,
मेरे तन -मन मे तु है समाया हुआ।

क्या देखा कभी चांद की दुश्मनी रोशनी को अकेले मे रोते हुए,
क्या किरणों को देखा कभी आपने सूरज से तन्हा होते हुए,
फिर अपराध कोई क्या हमने किया,
मै भूला दूं तुझे बोलो कैसे पिया
मै भूला दूं……..

तुम कहो तो भुला दूं ये संसार मै छोटा सा आंगना बाबुल का प्यार मै,
इसी घूंघट मे हस लूंगी रो लूंगी मै भूलूंगी नहीं तेरा उपकार मै,
पूरा जिवन हीं तुझको अर्पण किया,
मै भूला दूं तुझे बोलो कैसे पिया,
मै भूला दूं….

सात फेरों के संग सात वचनें बंधी तु मेरा बना मै तेरी बनी,
पुष्प मंत्रों से अग्नि सुशोभित हुई लोग कहने लगे तेरी अर्धांगिनी,
है भगवन् ने खुद तुमको मुझको दिया,
मै भूला दूं तुझे बोलो कैसे पिया,
मै भूला दूं……

तेरे बिना मै बिखर जाऊगी दुनिया के तानों से मर जाऊगी ,
तु रिश्तों को सारे भले तोड़ दे मै तेरे बिना कैसे घर जाऊंगी,
तेरे रिश्तों ने मुझको पावन किया,
मै भुला दूं तुझे बोलो कैसे पिया

कवि अभिषेक पाण्डेय

Views 10
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia