मैं

Kokila Agarwal

रचनाकार- Kokila Agarwal

विधा- कविता

हर लम्हा
पुकारती हूं
मैं..
हर लम्हा
हारती हूं
मैं..
समझ न आये
मायने अब तक
बस लम्हे
संवारती हूं
मैं…
इक तमाशा
बन गई
ज़िंदगी
बस जीकर
गुज़ारती हूं
मैं…..
न कोई राह
न कोई मंज़िल
न कोई आवाज़
न परवाज़
अजब सा
ये मंज़र
है आंखो में
जाने क्या
तलाशती हूं
मैं…….

Sponsored
Views 4
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Kokila Agarwal
Posts 50
Total Views 440
House wife, M. A , B. Ed., Fond of Reading & Writing

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia