मैं हूँ

प्रतीक सिंह बापना

रचनाकार- प्रतीक सिंह बापना

विधा- कविता

सारे इंतज़ार की जड़ मैं हूँ
हर ज़रूरत की तलब मैं हूँ
गुज़रते हुए लम्हे की एक सोच
दिल मे जो घर कर जाए, मैं हूँ

दो साँसों के बीच को खाली जगह
तुमने अधूरी पढ़कर छोड़ी वो किताब
दूरियों के लिबास में लिपटा हुआ
खालीपन का गहरा एहसास मैं हूँ

मैं दर्द हूँ, दवा भी हूँ मैं
जो तुम अक्सर चाहते मैं वो हूँ
प्यार से ज़्यादा नफरत मिली मुझे
जंग में घायलों की चीखों सा मैं हूँ

संसार के पापों का प्रायश्चित
आसानी से निभाया गया परहेज़
जब कोई ना हो तब भी हूँ मैं
रूहानी सा एक एहसास मैं हूँ

–प्रतीक

Sponsored
Views 35
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
प्रतीक सिंह बापना
Posts 38
Total Views 968
मैं उदयपुर, राजस्थान से एक नवोदित लेखक हूँ। मुझे हिंदी और अंग्रेजी में कविताएं लिखना पसंद है। मैं बिट्स पिलानी से स्नातकोत्तर हूँ और नॉएडा में एक निजी संसथान में कार्यरत हूँ।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia