*****मैं हूँ एक ‘सुंदर’ सुमन****

Neeru Mohan

रचनाकार- Neeru Mohan

विधा- कविता

**कलम चली है आज
जो अब लिखने को
किया अनुरोध किसी ने
कुछ लिखने को

**औरों के ऊपर नहीं
सिर्फ उस पर लिखने को
किया अनुरोध आज
किसी ने कुछ लिखने को

**सोच रही हूँ मैं
ऐसा कुछ क्या लिखूँ
याद रहे उसे दिया उपहार है
किसी अपने ने किसी अपने को

**भोली सूरत मन उसने कोमल है पाया
हँसी है उसकी जैसे चाँद निकल के आया

**सूरज जैसी छटा बिखेरती रहती है
चलती है जैसे मोरनी-सी कोई उपवन में
बातों में है जादू उसकी मृदुभाषी है वह, कलरव करती जैसे विहग की भाँति है वह

**कार्य में निपुण वह हर ,छंद लिख लेती है
हिंदी का तो नहीं पता ,अंग्रेजी पद घड़ लेती है

**नाम भी उसका सुंदर है मतलब भी 'सुंदर' है
अपने आप ही जानिए यह किसका विवरण है

**नीरू ने दिया उसका पूरा सारांश यहाँ है
पता स्वयं लगाओ रोज़ाना का मिलना है

**नहीं पता लग पाए तो कोई हर्ज नहीं है भाई
संदेश पहुँचाना था जिस तक उसको बात शीघ्र समझ है आई

**बहुत आभारी नीरू उसकी जिसने है साथ दिया
पूरा विवरण किया उस 'सुंदर'सुमन का और एक पद निर्माण किया

**और कोई नहीं है वह मेरी कलम प्रवीण ,प्रखर
लिखती ही रहती है, नहीं थकती कभी मगर
लिखती ही रहती है, पर थकती नहीं मगर*******

Sponsored
Views 54
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
Neeru Mohan
Posts 96
Total Views 5.9k
व्यवस्थापक- अस्तित्व जन्मतिथि- १-०८-१९७३ शिक्षा - एम ए - हिंदी एम ए - राजनीति शास्त्र बी एड - हिंदी , सामाजिक विज्ञान एम फिल - हिंदी साहित्य कार्य - शिक्षिका , लेखिका friends you can read my all poems on my blog (साहित्य सिंधु -गद्य / पद्य संग्रह) myneerumohan.blogspot.com Mail Id- neerumohan6@gmail.com mohanjitender22@gmail.com

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia