मैं हिन्दुस्तान हूँ सरदार के आज़ाद सपनो का

हरेन्द्र सिंह कुशवाह 'एहसास'

रचनाकार- हरेन्द्र सिंह कुशवाह 'एहसास'

विधा- गज़ल/गीतिका

मेरे सीने से निकला है लहूँ अपनो के ज़ख़्मो का ,
महल कब हाल पूँछेगे घिसीं बेकार सड़को का ।

मेरी हालत बनाई है किसी अबला अभागिन सी ,
मैं हिन्दुस्तान हूँ सरदार के आज़ाद सपनो का ।

हिमालय से निकल आये किसी दिन लाडला मेरा ,
मुझे आभास होता है भगत से वीर कदमो का ।

जहाँ देखो वही अब तो इसी कुर्सी के झगड़े हैं ,
सभी मिल क़त्ल कर बैठे रिवाजों और रश्मो का ।

लगी है नाल सीने में चलाता फिर भी है तोपे ,
लहूँ बहता है सरहद पर मेरे दिलदार बच्चो का ।

हरेन्द्र सिंह कुशवाह
~~~एहसास~~~

Sponsored
Views 164
इस पेज का लिंक-
Recommended
Author
हरेन्द्र सिंह कुशवाह 'एहसास'
Posts 3
Total Views 181
पेशे से पत्रकार और शौक से कवि एवं लेखक ।

इस पर अपनी प्रतिक्रिया देंं


हिंदी साहित्यपीडिया का फेसबुक ग्रुप ज्वाइन करें और जुड़ें दुनिया भर के साहित्यकारों एवं पाठकों से- facebook.com/groups/hindi.sahityapedia